अपनों के लिए.
चिंता हृदय में होती है.
शब्दों में नहीं!

और अपनों के लिए.
गुस्सा शब्दों में होता है
हृदय में नहीं!
🌹🌹सुप्रभात 🌹🌹

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here