दुखो को समेट खुशिया देती है
वो कोई और नहीं सिर्फ माँ होती है||

~ Ankit kumawat

The post दुखो को समेट खुशिया देती है appeared first on LoveSove.com.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here