“खुशियां इकट्ठी करते-करते उम्र बीत गयी, अब जाकर पता चला, कि खुश तो वह लोग थे जो खुशियां बाँट रहे थे।” – सुप्रभात।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here