Report Image

वो जोश-ए-तन्हाई शब-ए-ग़म, वो हर तरफ बेकसी का आलम, कटी है आँखों में
रात सारी, तड़प तड़प कर सहर हुयी।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here